माँ और शिशु दोनों के लिए स्तनपान कैसे हैं जरूरी

मां का दूध बच्चे के लिए अमृत के समान होता है। मां का दूध बच्चे को रोगो से दूर रखता है ऐसा माना जाता है कि मां दूध निरोगहोता है जो बच्चे को रोगो से लड़ने की क्षमता होता है। बच्चे को स्तनपान करवाना सिर्फ बच्चे के लिए  ही नहीं बल्कि मां के लिएभी फायदेमंद होता हैं।

स्तनपान करवाने से महिलाएं रोगमुक्त रहती है। मां के स्तन  से पहली बार निकलने वाला दूध में गाढ़ा पीले रंग का द्रव भी आताहै जिसे कोलोस्ट्रम कहते हैं। यह बच्चे को जरूर पिलाना चाहिए क्योंकि यह बच्चे को इंफेक्शन से दूर रखता है। स्तनपान सेब्लड कैंसर, डायबिटीज और हाई ब्लड प्रेशर रिस्क कम होता है। मां के दूध से बच्चे के दिमाग का विकास होता है।

एक महीने से एक साल की उम्र में बच्चे में अचानक शिशु मृत्यु संलक्षण का खतरा रहता है, इससे खतरे से बच्चे को माँ का दूधबचाता है। स्तनपान कराने वाली महिलाओं को स्तन या गर्भाशय के कैंसर का खतरा काफी हद तक कम हो जाता है। स्तनपानएक प्राकृतिक गर्भनिरोधक है। इससे प्राकृतिक ढंग से वजन कम करने और मोटापे से बचने में मदद मिलती है।

Leave a Reply