शिक्षा का अर्थ परिभाषा महत्व उद्देश्य और प्रकार 

शिक्षा स्वयं को पहचानने व अपनी शक्तियों,अपनी काबिलियत,अपनी गुणों  को पहचानने की क्षमता का विकास करता हैं।यह  मनुष्यके जीवन  में  प्रयत्न   चलने वाली प्रक्रिया है जो बालक के जन्म से लेकर उसकी मृत्यु तक निरंतर चलते रहती है।जो व्यक्ति को बोलना, चलना,व्यवहार करनाभी सिखाता है। इसके दो छोर होते है –

1 शिक्षक 

2. शिक्षार्थी

शिक्षा शब्द संस्कृत के शिक्ष धातु में आ प्रत्यय लगाने से हुई है जिसका तात्पर्य सीखना और सिखाना।

शिक्षा शास्त्रियों के अनुसार एजुकेशन शब्द की उत्पत्ति लैटिन भाषा की निम्नलिखित शब्दों से हुई है।

शब्दअर्थ
EducatumTo train, act of teaching or  training (शिक्षित करना)
EducereTo lead out (विकसित करना अथवा निकालना)
EducateTo educate , to bring up ,to raise (आगे बढ़ना, बाहर  निकालना अथवा विकसित

■शिक्षा का संकुचित अर्थ

शिक्षा के संकुचित अर्थ से अभिप्राय उस शिक्षा से है जो एक निश्चित स्थान अथवा विद्यालय कॉलेज में निश्चित समय तक एवं निश्चितयोजना के तहत दी जाती है ।

■शिक्षा का व्यापक अर्थ

शिक्षा के व्यापक अर्थ के अनुसार शिक्षा जीवन चलने वाली प्रक्रिया है।यह प्रक्रिया उसी समय प्रारंभ हो जाती है जब बालक का जन्महोता है।

■शिक्षा का महत्व (importance of education)

1.शिक्षा का महत्व व्यक्ति के प्रत्येक पहलू को विकसित करके इसका चारित्रिक निर्माण करती है।

 व्यक्ति के  जीवन में राष्ट्रीय एकता, भावनात्मक एकता, सामाजिक कुशलता तथा राष्ट्रीय अनुशासन आदि भावना को विकसित करकेउसे इस योग्य बना देती है।कि वह सामाजिक कर्तव्य को पूरा करते हुए राष्ट्रीय हित को प्राथमिकता देने के लिए  जा मिटने का जज्बा   रखता है।

■शिक्षा के उद्देश्य (Purpose of education)

सामाजिक उद्देश्य की दृष्टि से व्यक्ति का संपूर्ण जीवन राष्ट्र की भलाई के लिए है ना कि केवल व्यक्तिगत व्यक्तिगत भलाई के लिए।

■शिक्षा के कार्य (work of education)

व्यक्ति संबंधी

●आंतरिक शक्तियों का विकास करना 

●संपूर्ण व्यक्तित्व का भी पूर्ण विकास 

●भावी जीवन की तैयारी 

●नैतिक उत्थान करना 

● मानवीय गुणों का विकास 

● आत्मनिर्भर बनाना 

●आवश्यकता की पूर्ति में सक्षम बनाना 

● जन्मजात प्रकृतियों में सुधार

समाज संबंधित

●सामाजिक नियमों का ज्ञान

● प्राचीन साहित्य का इतिहास

●कुरूतियो के आवरण में सहायक

● सामाजिक भावना का विकास 

●सामाजिक उन्नति में सहायक 

●धर्मों के विषय में 

●उदार दृष्टिकोण

राष्ट्र संबंधी

●भावनात्मक एकता 

●कुशल नागरिक 

●राष्ट्रीय विकास

●राष्ट्रीय एकता 

●सार्वजनिक हित संबंधी कार्य 

●सार्वजनिक आय संबंधी कार्य 

●राष्ट्रीय अनुशासन 

● अधिकार तथा कर्तव्यों का ज्ञान

वातावरण सम्बन्धी

●वतावरण से समायोजन

●वातावरण का अनुकूलन

■शिक्षा के प्रकार (Types of education)

शिक्षा के प्रकार शिक्षा शास्त्रियों ने शिक्षक का वर्गीकरण अनेक प्रकार से किया है इनमें से प्रमुख निम्न है

1.औपचारिक शिक्षा (formal education)

2. अनौपचारिक शिक्षा(Informal education)

3. दूरस्थ शिक्षा(Distance education)

Leave a Reply